Author(s): चेतना गजपाल, कुबेर सिंह गुरुपंच

Email(s): chetnagajpal@gmail.com

DOI: 10.52711/2454-2679.2023.00016   

Address: चेतना गजपाल1, डॉ. कुबेर सिंह गुरुपंच2
1शोधार्थी (पीएचडी)़, भूगोल विभाग, शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय, दुर्ग, छ.ग.
2निर्देषक, हेमचंद यादव विश्वविद्यालय, दुर्ग, छ.ग.
*Corresponding Author

Published In:   Volume - 11,      Issue - 2,     Year - 2023


ABSTRACT:
किसी भी देश की जनसंख्या में परिवर्तन वहाँ की आर्थिक स्वरूप पर निर्भर करता है। छत्तीसगढ़ एक कृषि प्रधान राज्य है, जहाँ के अधिकांश जनसंख्या कृषि पर निर्भर रहती हैैै। कृषि के लिए अधिकतर किसान मानसून पर निर्भर रहते है, जिन क्षेत्रों में वर्ष भर जल की उपलब्धता रहती है, वहाँ साल में दो फसल पैदा करने की क्षमता बढ़ जाती है। प्रस्तुत अध्ययन का उद्देश्य जनसंख्या परिवर्तन एवं जीवन स्तर में जल संसाधन की भूमिका का अध्ययन करना, जनसंख्या परिवर्तन एवं जीवन स्तर से जल संसाधन में प्रभावों का अध्ययन करना एवं जनसंख्या परिवर्तन एवं जीवन स्तर में जलसंसाधन के प्रति लोगों को जागरूक करना। अध्ययन क्षेत्र छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के अंतर्गत दुर्ग एवं धमधा विकासखंड का चयन किया गया है, जिनमें जलसंसाधन के कारण जनसंख्या में परिवर्तन एवं जीवन स्तर पर पड़ने वाले प्रभाव का विश्लेषणात्मक अध्ययन किया गया हैैै। दुर्ग जिले की जनसंख्या वर्ष 2001 की जनगणना के अनुसार 1503146 है। एवं 2011 की जनगणना के अनुसार 1721948 है जिसका 10 वर्षीय जनसंख्या वृद्धि (प्रतिशत में) 14.56 प्रतिषत आंका गया है। इसी प्रकार दुर्ग जिले के अंतर्गत विकासखंड में दुर्ग की जनसंख्या 2001 की जनगणना के अनुसार 997848 है। 2011 की जनगणना के अनुसार 1126731 है, जिसका 10 वर्षीय जनसंख्या वृद्धि (प्रतिशत में) 12.91 प्रतिषत आंका गया है। धमधा विकासखंड की जनसंख्या 2001 की जनगणना के अनुसार 223087 है 2011 की जनगणना के अनुसार 269990 है। 10 वर्षीय जनसंख्या वृद्धि (प्रतिशत में) 21.02 प्रतिषत आंका गया है। जो कि जनसंख्या परिवर्तन को दर्शाती है। इसमे जलसंसाधन की अहम भूमिका देखी जा सकती है।


Cite this article:
चेतना गजपाल, कुबेर सिंह गुरुपंच. जनसंख्या परिवर्तन एवं जीवन स्तर में जल संसाधन की भूमिका (दुर्ग एवं धमधा विकासखंड के विशेष संदर्भ में). International Journal of Advances in Social Sciences. 2023; 11(2):106-4. doi: 10.52711/2454-2679.2023.00016

Cite(Electronic):
चेतना गजपाल, कुबेर सिंह गुरुपंच. जनसंख्या परिवर्तन एवं जीवन स्तर में जल संसाधन की भूमिका (दुर्ग एवं धमधा विकासखंड के विशेष संदर्भ में). International Journal of Advances in Social Sciences. 2023; 11(2):106-4. doi: 10.52711/2454-2679.2023.00016   Available on: https://ijassonline.in/AbstractView.aspx?PID=2023-11-2-7


सन्दर्भित ग्रंथ -
1.      अग्निहोत्री, आशुतोष (2016). जनपद कन्नौज में घटते अधोभौमिक जल स्तर की स्थिति का भौगोलिक अध्ययन, शोध पत्रिका-रिसर्च स्ट्रैटजी, टवस.-6,पृष्ठ क्र.165-168.
2.      गोले, उमा (2011). जिला दुर्ग छत्तीसगढ़ का भूमि उपयोग एवं शस्य गहनता का कालिक एवं स्थानिक स्वरूप, रिसर्च जर्नल ऑफ ह्यूमिनिटीस एंड सोशल साइंसेज, टवस.- 2(3)पृष्ठक्र.79-83
3.      गुप्ता, मुन्ना लाल (2016). ग्रामीण शिशु जनसंख्या वर्ष का तुलनात्मक अध्ययन (अरुणाचलप्रदेश के जनपदों-अजाव, लोहित एवं नामसाई के विशेष संदर्भ में), शोध पत्रिका-रिसर्च स्ट्रैटजी, टवस.-6, पृष्ठ क्र.114-120.
4.      चौरसिया, राजीव कुमार (2016). उत्तर प्रदेश की सामाजिक आर्थिक प्रगति का विश्लेषण एक भौगोलिक अध्ययन, शोध पत्रिका-रिसर्च स्ट्रैटजी, टवस.-6, पृष्ठ क्र.169-174.
5.      जल संसाधन विभाग मंत्रालय, महानदी भवन, नवा रायपुर, अटल नगर (2022) छत्तीसगढ़ राज्य जल संसाधन विकास नीति, छत्तीसगढ़ राजपत्र प्राधिकार से प्रकाशित, पृष्ठ क्र.1340-1349.
6.      जिला सांख्यिकी पुस्तिका वर्ष 2014-15, ‘छत्तीसगढ़ शासन’ जिला योजना एवं सांख्यिकी कार्यालय, दुर्ग (छ.ग.).
7.      जी., ओम एवं राजपूत, प्रेम प्रकाश (2016). जल संसाधनों का कृषि विकास पर प्रभाव (औरैया जनपद (उ.प्र.) का एक प्रतीक अध्ययन), शोध पत्रिका-रिसर्च स्ट्रैटजी, टवस.-6, पृष्ठ क्र. 175-180.
8.      तोमर, पारुल(2016). क्षेत्रीय विकास में सिंचाई का योगदानः जनपद खीरी के विशेष संदर्भ में भौगोलिक अध्ययन, शोध पत्रिका-रिसर्च स्ट्रैटजी, टवस.-6, पृष्ठ क्र.191-180.
9.      निर्मल साहू (2023). धमधा में कभी 126 तालाब थे, अब सिर्फ 30 ही बचे, कहीं बस स्टैंड, तो कहीं खेत बन गए, भिलाई-दुर्ग भास्कर (दैनिक भास्कर) समाचार, पत्र,पृष्ठ क्र.11
10.   बसंत, सूरजदेव (2009). जनसंख्या भूगोल, प्रकाशक-अर्जुन पब्लिशिंग हाऊस,दिल्ली.
11.   महतो, महेश (2023). जनसंख्या वृद्धि (परिवर्तन) के प्रभाव एवं परिणाम, भूगोल पृथ्वी का अध्ययन, (भूगोल डॉटनेट)
12.   रावत, ममता (2016). उत्तराखंड में भाबर नगरों की जनांकिकी संरचना, शोध पत्रिका-रिसर्च स्ट्रैटजी, टवस.-6, पृष्ठ क्र.121-128.
13.   विश्वकर्मा, रेखा (2016). उत्तर प्रदेश में जनसंख्या घनत्व में परिवर्तन (1991-2011 के अनुसार), शोध पत्रिका रिसर्च स्ट्रैटजी, टवस.-6, पृष्ठ क्र.121-128.
14.   सोनेकर,बी.एल.एवंअन्य (2018). दुर्ग जिले के ग्राम विकास में ग्रामीण विकास योजनाओं का योगदान (पाटन विकास के संदर्भ में), इंटरनेशनल जर्नल एंड सोशलसाइंसेज, टवस.-6(4), पृष्ठ क्र. 182-186.
15.   सिटी रिपोर्टर, भिलाई (2023). अमृत मिशन टूपॉइंट के सर्वे में खुलासाः अगले 30 साल के लिए बनाई गई कार्य योजना इसके लिए महीने भर वार्डों में सर्वे किया गया, भिलाई-दुर्ग भास्कर (दैनिकभास्कर) समाचार पत्र, पृष्ठ क्र.13.
16.   हेल्थ रिपोर्टर, दुर्ग (2022). ट्रीटमेंट प्लांट होने के बाद भी गंदा पानी नाली में, भिलाई- दुर्ग भास्कर (दैनिकभास्कर) समाचार पत्र, पृष्ठ क्र.18. (30दिसम्बर).

Recomonded Articles:

Author(s): Vrinda Sengupta

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): K.P. Kurrey, V. Sengupta, Satish Agrawal

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): श्याम सुन्दर पाल

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): वीरेन्द्र सिंह मटसेनिया बी एल सोनेकर

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): के. एस. गुरूपंच

DOI:         Access: Closed Access Read More

Author(s): अर्चना सेठी, प्रगति कृष्णन, रविन्द्र्र ब्रह्मे

DOI:         Access: Open Access Read More

International Journal of Advances in Social Sciences (IJASS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in the fields....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  

Popular Articles


Recent Articles




Tags