Author(s): श्याम सुन्दर पाल

Email(s): shyamsunder.yoga@gmail.com

DOI: Not Available

Address: डा- श्याम सुन्दर पाल
सहायक प्राध्यापक] योग विभाग] इंदिरा गाॅधी राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति विश्वविद्यालय अमरकंटक (म-प्र½
*Corresponding Author

Published In:   Volume - 5,      Issue - 1,     Year - 2017


ABSTRACT:
अनेक मनीषियो और अन्य उपासको की दृष्टि से जीव और परमात्मा का मिलन ही योग बताया गया है। अतः युजिम् योगे धातु से योग षब्द निष्पन्न माना जाता है परन्तु महर्षि पतंजलि ने समाधि अर्थ में योग षब्द का प्रयोग किया है। क्योकि] योग तो वैदिक परम्परा से लेकर आज तक चला आ रहा है। गीता में भगवान कृष्ण अनेक प्रकार के योगों का ज्ञान अर्जुन को प्रदान करते है और उनमें से सांख्य दर्षन तथा योग दर्षन को प्रमुख बताते हुए योग की महत्ता का प्रतिपादन करते है। योग के बिना तो संांख्य की साधना करना कठिन है। योग से युक्त होकर अर्थात् योग निष्णात होकर मुनि लोग शीघ्र ही ब्रह्म का साक्षात्कार करते है। योग के द्वारा ब्रह्म प्राप्ति का मार्ग सरल हो जाता है। योग षब्द संस्कृत के युज धातु]]से बना हुआ है जिस का सामान्य रूप से योग षब्द का अर्थ मिलना या जुड़ना होता है और यदि व्याकरण की दृष्टि से देखे तो पाण्निि के अनुसार युज् धातु तीन गुणों में पायी जाती है। युज् समाधौ दिवादिगणं] युजिर् योगे युधादिगणं और युज् संयमने चुरादिगण। क्रमषः इन तीनों धातुओं से बने योग षब्द के अर्थ भिन्न-भिन्न है। वेदान्तियों और अन्य उपासकों की दृष्टि से जीव और परमात्मा का मिलन होता है। अतः युजिर् योगे धातु षब्द निष्पन्न माना जाना चाहिए। परन्तु महर्षि पतंजलि ने समाधि अर्थ से योग षब्द प्रयोग किया है। संस्कृत वाडग्मय में इन तीनों अर्थो में योग षब्द का प्रयोग प्रायः होता रहा है। क्योंकि योग तो वैदिक परम्परा से लेकर आज तक चला आ रहा है। जैसा कि ऋग्वेद में दृष्टव्य है-’’इन्द्रः क्षेमे योग हव्य इन्द्रः’’2 और याज्ञवल्वयस्मृति में उल्लेख मिलता है कि- ’’हिरण्यगर्भो योगस्य वक्तामान्यः पुरातनः।3


Cite this article:
श्याम सुन्दर पाल. मानव जीवन में योग का महत्व. Int. J. Ad. Social Sciences. 2017; 5(1): 29-32.

Cite(Electronic):
श्याम सुन्दर पाल. मानव जीवन में योग का महत्व. Int. J. Ad. Social Sciences. 2017; 5(1): 29-32.   Available on: https://ijassonline.in/AbstractView.aspx?PID=2017-5-1-7


सन्दर्भ ग्रंथ सूचीः
1-   पातंज्लयोग सूत्र।
2-   पातंजल योग प्रदीप स्वामी ओमानन्दतीर्थ] गीता प्रेस गोरखपुर।
3-   श्रीमद्भगवत गीता योगांक गीताप्रेस गोरखपुर।
4-   सम्पूर्ण योगविद्या] राजीव जैन] मंजुला पब्लिषिंग हाउस] मालवीय नगर] भोपाल।
5-   अथर्ववेद
6-   वेदान्तसार] सन्तनारायण] श्रीवास्तव] सुदर्षन प्रकाषन गाजियाबाद] 2005
7-   वेदान्तसार
8-   सिंह एवं सिंह भारतीय दर्शन] ज्ञानदा प्रकाशन] नई दिल्ली] 2002
9-   बद्रीनाथ सिंह] भारतीय दर्शन की रूपरेखा] आशा प्रकाशन] वाराणसी] 1997
10-  बी-के-एस- अयंगार] योग प्रदीपिका] ओरियंट ब्लैक स्वाॅन प्रा-लि- नयी दिल्ली] 2009
11-  हरिकृष्णदास] गोयन्दका योग दर्शन] गीता प्रेस गोरखपुर] 2007
12-  स्वामी विवेकानंद] राजयोग] पी-एम- पब्लिकेशन] नयी दिल्ली] 2014
13-  एल-एन-गर्दे] हनुमान प्रसा पोद्दार] योगांक] गीता प्रेस गोरखपुर] 1992
14-  शांति प्रकाश आत्रेय]योग एवं मनोविज्ञान] तारा प्रकाशन] काशी] 1965
15-  अनुजा रावत] योग एवं योगी] सत्यम पब्लिकेशन] नयी दिल्ली] 2014
16-  सुरेशचंद्र श्रीवास्तव] पातंजली योग (योग सिद्धि)] विश्वविद्यालय प्रकाशन] वाराणसी
17-  श्रीमद्भगवत् गीता] गीता] गीताप्रेस गोरखपुर
18-  नंदलाल मिश्र] मानवचेतना] बी-एस-शर्मा एण्ड ब्रदर्स] आगरा] 2004
19-  सीताराम जायसवाल] भारतीय मनोविज्ञान] आर्य बुकडिपो] दिल्ली] 1987
20-  योगवाशिष्ट] योगवाशिष्ट] गीता प्रेस गोरखपुर
21-  एच-आर- नार्गेन्द्र] प्राणायाम कला एवं विज्ञान] स्वामी विवेकानंद योग प्रकाशन] बेंगलोर] भारत
22-  ईश्वर भारद्वाज] मानवचेतना] सत्यम पब्लिकेशन] नयी दिल्ली
23-  स्वामी विज्ञानानंद] योगविज्ञान] मंुगेर प्रकाशन बिहार

Recomonded Articles:

Author(s): श्याम सुन्दर पाल

DOI:         Access: Open Access Read More

International Journal of Advances in Social Sciences (IJASS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in the fields....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  


Recent Articles




Tags