Author(s): भारती सिंह कुमेटी, सुनील कुमार कुमेटी

Email(s): bharti9229@gmail.com

DOI: Not Available

Address: भारती सिंह कुमेटी1, सुनील कुमार कुमेटी2
1सहायक प्राध्यापक (अतिथि), अर्थषास्त्र विभाग, शासकीय दू. ब. महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय रायपुर (छ.ग.)
2सहायक प्राध्यापक, अर्थषास्त्र अध्ययनषाला, पं. रविषंकर शुक्ल विष्वविद्याल रायपुर (छ.ग.)
*Corresponding Author

Published In:   Volume - 10,      Issue - 2,     Year - 2022


ABSTRACT:
खनिज पदार्थ किसी भी देष की वह प्रकृति प्रदत्त संचित निधि है जो उद्योग धन्धों, यातायात के साधनों एवं अन्य विकास कार्यों की आधारषीला निर्मित करती हैं। दुनियाभर में आधुनिक षहरीकरण, औद्योगीकरण, परिवहन और संचार प्रणाली का विकास स्थायी खनिज संसाधन और विभिन्न क्षेत्रों में उनके उचित उपयोग की उपलब्धियां हैं। सतत् खनिज संसाधनों ने आधुनिक सभ्य औद्योगिक विष्व को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और अब भी निभा रही है। इसका मतलब यह है कि किसी भी देष का सतत् सामाजिक-आर्थिक मुलभूत संरचना प्राकृतिक संसाधनों में इसकी समृद्धि, इसकी तकनीकी जानकारी, खनिज संसाधनों का पता लगाने और दोहन करने की क्षमता और अंत में राष्ट्र की विकास गतिविधियों में उन संसाधनों का उचित उपयोग करने में उनकी समझदारी का संकेत है। विकास गतिविधियों में विकासषील देष आमतौर पर विकसित देषों की तुलना में बहुत पीछे हैं। यह मुख्य रूप से प्राकृतिक संसाधनों की कमी, समुचित षिक्षित मानव संसाधनों और सुदृढ़ सामाजिक-आर्थिक स्थितियों के अभाव के कारण है। एक स्थायी और मजबूत समाज की दिषा में प्रगति केे लिए छत्तीसगढ़ जैसे प्रदेष को अपने मौजूदा खनिज संसाधनों के विकास को प्राथमिकता देनी चाहिए, जो प्रदेष के सामाजिक-आर्थिक बुनियादी ढ़ांचे को आकार देने में प्रमुख भूमिका निभा सकती है।


Cite this article:
भारती सिंह कुमेटी, सुनील कुमार कुमेटी. छत्तीसगढ़ में खनिज संसाधनों का सकल राज्य घरेलू उत्पाद में योगदान. International Journal of Advances in Social Sciences. 2022; 10(2):91-6.

Cite(Electronic):
भारती सिंह कुमेटी, सुनील कुमार कुमेटी. छत्तीसगढ़ में खनिज संसाधनों का सकल राज्य घरेलू उत्पाद में योगदान. International Journal of Advances in Social Sciences. 2022; 10(2):91-6.   Available on: https://ijassonline.in/AbstractView.aspx?PID=2022-10-2-7


संदर्भ सूची -
1.        Akhtar, Afia (2005) Mineral resources and their economic significance in national development: Bangladesh perspective, Geological Society, London, Special Publications, 250, 127-134, 1 January 2005, https://doi.org/10.1144/GSL.SP.2005.250.01.12
2.        Amavilah, VHS (1995) Industrialization, Mineral Resources and Energy in Africa edited by Smail Khennas, Reviews Journal of Modern African Studies, Vol. 33, No. 3, pp. 503-506.
3.        Karlsen, T.A. and B. Sturt (2000) Industrial minerals and towards a future growth, Norges Geologiske Undersokelse-BULL, 436, pp. 7-13.
4.        Khennas, S. [Editor] (1992) Industrialization, Mineral Resources and Energy in Africa, CODESRIA Books Series, Ed. Dakar. ISBN: 2-86978-015-X.
5.        Klein, B.W. (1993) Metals and industrial minerals mining ñ Industry overview. Available at http://findarticles.com/p/articles/mi_m3617/is_1993_Annula/ai_13990426/print.
6     आर्थिक सर्वेक्षण, वर्ष 2010-11, 2012-13, 2015-16, 2018-19, 2020-21, आर्थिक एवं सांख्यिकीय संचालनालय, छत्तीसगढ़ शासन.
7     भारतीय खान ब्यूरो, इंदिरा भवन, सिविल लाइंस, नागपुर 440001.
8     तिवारी, विजय कुमार: भारत का वृहद भूगोल, हिमालया पब्लिषिंग हाऊस, नई दिल्ली, 1997
9      https://ibm.gov.in/

Recomonded Articles:

Author(s): गजेन्द्र कुमार1, किशोर कुमार अग्रवाल

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): सोनिया गोस्वामी

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): हरिश कुमार साहू , वेदवती मण्डावी

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): केदार कुमार, अष्विनी महाजन

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): रविन्द्रनाथ मिश्रा, पूर्णेन्द्र कुमार वर्मा

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): K.P. Kurrey, Vrinda Sengupta

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): भारती सिंह, राधा पाण्डेय

DOI:         Access: Open Access Read More

International Journal of Advances in Social Sciences (IJASS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in the fields....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  

Popular Articles


Recent Articles




Tags