Author(s): महीप चैरसिया, प्रमोद कुमार तिवारी

Email(s): mahipchaurasia66@gmail.com , pktiwari61@gmail.com

DOI: Not Available

Address: महीप चैरसिया1, डाॅ. प्रमोद कुमार तिवारी2
1षोध छात्र (जे.आर.एफ.) भूगोल विभाग, नागरिक पी.जी. काॅलेज, जंघई, जौनपुर (उ0प्र0).
2प्राचार्य एवं विभागाध्यक्ष भूगोल विभाग नागरिक पी.जी. काॅलेज जंघई जौनपुर.
*Corresponding Author

Published In:   Volume - 8,      Issue - 3,     Year - 2020


ABSTRACT:
सेवा केंद्रों का अभिप्राय उन अधिवासों से है, जो अपनें चतुर्दिक क्षेत्रों में कुछ निष्चित सेवाओं की पूर्ति करते हैं तथा जो अपेक्षाकृत दूसरे केंद्रों से अपने क्रियाओं की प्रगाढ़ता एवं विस्तार में भिन्न होते हैं। भूगोलवेताओं ने विभिन्न स्तर के सेवा केन्द्रों को अनेक नामों से अभिव्यक्त किया है, जैसे-विकास ध्रुव, विकास केन्द्र, केंद्र स्थल तथा सेवा केंद्र। किसी भी क्षेत्र में सेवा केंद्र ग्रामीण विकास और विकास की नीतियों एवं कार्यक्रमों को क्रियान्वित करनें में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं। अध्ययन क्षेत्र जनपद जौनपुर एक प्राचीन एवं एतिहासिक नगर रहा है। इस क्षेत्र में सेवा केंद्रों का विकास मनुष्य की आवश्यकता के अनुसार क्रमागत एतिहासिक युगों में हुआ है। प्रस्तुत शोध पत्र में जौनपुर जनपद के सेवा कंेद्रों को स्थिति और वितरण तथा उनके नियोजन का अध्ययन किया गया है। जिसके माध्यम से ग्रामीण विकास में इनकी भूमिका तथा विकास की संभावना को ज्ञात किया गया है। जिसके लिए द्वितीय तथा तृतीय स्रोत से प्राप्त आँकड़ो तथा सेवा केंद्रों के वितरण को ज्ञात करनें के लिए वायसन के समभाव्यता नियम का प्रयोग किया गया है। सामाजिक, आर्थिक और संास्कृतिक तथ्यों को स्पष्ट करनें के लिए क्षेत्र के भौतिक तथा सांस्कृतिक मानचित्रों व तालिकाओं का प्रयोग यथा स्थान पर हुआ है।


Cite this article:
महीप चैरसिया, प्रमोद कुमार तिवारी. जौनपुर जनपद (उ0प्र0) में सेवा केन्द्रों की स्थिति, वितरण और उनके नियोजन का एक भौगोलिक अध्ययन. Int. J. Ad. Social Sciences. 2020; 8(3):113-118.

Cite(Electronic):
महीप चैरसिया, प्रमोद कुमार तिवारी. जौनपुर जनपद (उ0प्र0) में सेवा केन्द्रों की स्थिति, वितरण और उनके नियोजन का एक भौगोलिक अध्ययन. Int. J. Ad. Social Sciences. 2020; 8(3):113-118.   Available on: https://ijassonline.in/AbstractView.aspx?PID=2020-8-3-9



संदर्भ सूची:-
1ण्    कुमार, रतन 1999. भूमि उपयोग परिवर्तन एवं नवाचार, षोध प्रबनध वीर बहादुर सिंह पूर्वाचल विष्वविद्यालय, जौनपुर पेज नं 42-75
2ण्    चैरसिया, महीप, 2018. सामाजिक-आर्थिक रूपांतरण एवं ग्रामीण विकासः जौनपुर जनपद का एक भौगोलिक अध्ययन, स्वीकृत षोध प्रस्ताव वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विष्वविद्यालय, जौनपुर।
3ण्    तिवारी, आर.सी. और सिंह, बी.एन. 2014, कृषि भूगोल, प्रवालिका पब्लिकेषन, प्रयागराज, पेज नं. 343-449
4ण्    तिवारी, आर.सी. एवं सिंह, बी.एन. 2018, कृषि भूगोल, प्रवालिका पब्लिकेषन, प्रयागराज, पेज नं, 75-79
5ण्    श्रीवास्तव, वीरेन्द्र एवं प्रकाष, जय, 1978. बाजार केंद्रों का पदानुक्रम निर्धारण एक विधितंत्रीय उपागम, उत्तर भारत भूगोल पत्रिका पेज नं.-87
6ण्    मौर्य, एस.डी. 2012. मानव एवं आर्थिक भूगोल, षारदा पुस्तक भवन, प्रयागराज, पेज नं. 216-233
7ण्    सिंह, रवीन्द्र, 2009, जौनपुर (जनपद के ग्रामीण विकास में जैव संसाधनों की भूमिका, षोध प्रबंध, वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विष्वविद्यालय, जौनपुर पेज नं., 28-123
8ण्    जिला सांख्यिकीय पत्रिका जनपद जौनपुर
9ण्    जिला हथकरघा कार्यालय, जौनपुर
10ण्    जिला खादी एवं ग्रामोद्योग कार्यालय, जौनपुर
11.    District Census hand Book Jaunpur (2018)
12.    Enayat Ahmad, 1965, Physical, Economical Geography, Ranchi University Press P. 270
13.    Ojha, R.N. 1996. Geography of Regional Planning P. 277
14.    World Bank Collection of development indicators (2020)

Recomonded Articles:

Author(s): भारती सिंह, राधा पाण्डेय

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): अर्चना सेठी

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): केदार कुमार, अष्विनी महाजन

DOI:         Access: Closed Access Read More

International Journal of Advances in Social Sciences (IJASS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in the fields....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  


Recent Articles




Tags