Author(s): अर्चना सेठी, बी एल सोनेकर

Email(s): sonekarptrsu@gmail.com

DOI: Not Available

Address: अर्चना सेठी1, बी एल सोनेकर2
1सहायक प्राध्यापक, अर्थषास्त्र अध्ययनषाला, पडित रविषंकर शुक्ला विष्वविद्यालय, रायपुर.
2सहप्राध्यापक, अर्थषास्त्र अध्ययनषाला, पडित रविषंकर शुक्ला विष्वविद्यालय, रायपुर.
*Corresponding Author

Published In:   Volume - 8,      Issue - 4,     Year - 2020


ABSTRACT:
भारत एक साथ कई मोर्चे पर चुनौतियों का सामना कर रहा है।श्षासन कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने तथा लाकडाउन के चलते सुस्त हुई अर्थब्यवस्था को पटरी पर लाने और सीमा पर चीन के दबाव को समाप्त करने का प्रयास कर रहा है। वास्तव में लाकडाउन के बाद की स्थ्तिि और चीन सेेन्य तनाव से उपजे हालात को भारत एक अवसर के रुप में देख रहा ळें आत्मनिर्भर भारत एक ऐसा भारत जो हर क्षेत्र में अपनी स्वयं की योग्यता और क्षमता रखता है। केंद्र सरकार ने भी मनरेगा का बजट 60 हजार करोड से बढाकर 1 लाख करोड कर दिया है लेकिन इतना पर्याप्त नही है अतः भारत षासन ने 20 करोड रु की आर्थिक पैकेज की धोषणा दिहाडी मजदूरों छोटे किसान एवं मध्यम वर्ग के लिए की है। साथ ही कुटीर उद्योग लघु उद्योग और स्टार्टअप को मजबूती मिले ज्यादा से ज्यादा रोजगार सृजन हो एवं भारतीय अर्थब्यवस्था मजबूत हो सके। इसके साथ ही साथ लोगों में अवबंस वित सवबंसए डंाम पद प्दकपंए स्वदेषी अपनाना और चीनी उत्पादन का बहिष्कार करना आदि अभियान भारतीय अर्थब्यवस्था को मजबूती प्रदान कर रहा है। अब षासन के साथसाथ आमजनता को भी मेक इन इंडिया को अपना पसंदीदा ब्रांड बनाना होगा। पूर्ति पक्ष में सुधार के साथ ही मांग में वृद्वि के लिए आवष्यक है षासन नगद हस्तांतरण करे जिससे आय बढे एवं मांग उत्पन्न हौ।


Cite this article:
अर्चना सेठी, बी एल सोनेकर. भारतीय अर्थव्यवस्था और आत्मनिर्भर भारत. Int. J. Ad. Social Sciences. 2020; 8(4):191-195.

Cite(Electronic):
अर्चना सेठी, बी एल सोनेकर. भारतीय अर्थव्यवस्था और आत्मनिर्भर भारत. Int. J. Ad. Social Sciences. 2020; 8(4):191-195.   Available on: https://ijassonline.in/AbstractView.aspx?PID=2020-8-4-12


संदर्भ
1 सेलंकी, राकेष कुमार ;2020द्ध आत्मनिर्भर भारत रोजगार और भारतीय अर्थब्यवस्था पर इसके प्रभाव, Juni Khyat, Vol.-10, Issue-7 No.14, July 2020.
2  प््राधान, अनूप एवं ऋचा सिंघल ;2020द्ध कोरोना आर्थिक सामाजिक चुनोतियां एवं आर्थिक विकास एक परिदृष्यए
Juni Khyat, Vol.-10, Issue-7 No.14, July2020
3 ठाकुर एसण् केण् एवं रेनू मौर्य ;2020द्ध कोविड 19 का मानव संसाधन प्रबंध पर प्रभावए Juni Khyat, Vol.-10, Issue-7 No.14, July 2020
4 चैधरीए लखन ;2020द्ध देषबंधु, राष्ट्रीय संस्करण, नई दिल्ली, 12 अगस्त, 2020
5.    Jain, Santosh (2020) Effects of Financial Inclusion Flagship Schemes in Rajsthan, Juni Khyat, vol.-10, Issue-7 No.14, July2020.
6.    http://www.igidr.ac.in/working-paper-covid-19-impact-indian-economy/
7.    http://www.researchgate.net/publication/340137009_Impact of coronavirus_COVID_19_on_Indian _economy
8.    https://pmmodiyojna.in>aatm-nirb...

Recomonded Articles:

Author(s): अर्चना सेठी, बी एल सोनेकर

DOI:         Access: Open Access Read More

International Journal of Advances in Social Sciences (IJASS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in the fields....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  


Recent Articles




Tags