Author(s): कमल नारायण गजपाल, नवीन कुमार द्विवेदी

Email(s): kngajpal@gmail.com

DOI: Not Available

Address: डाॅ. कमल नारायण गजपाल1, नवीन कुमार द्विवेदी2
1विभागाध्यक्ष, प्रगति महाविद्यालय, रायपुर.
2एम. एड. छात्र, प्रगति महाविद्यालय, रायपुर.
*Corresponding Author

Published In:   Volume - 8,      Issue - 4,     Year - 2020


ABSTRACT:
मानव समाज के अभ्युदय से लेकर अब तक के विकास पर दृष्टिपात करे तो हम पायेगें कि व्यक्ति का जीवन इतना जटिल कभी नहीं रहा जितना कि आज है। जन्म के बाद व्यक्ति ज्यों-ज्यों समाज के संपर्क में आता गया है वह अपने को समस्याओं से घिरा पाता गया है। आज के भौतिक युग में जीवन संघर्ष प्राचीन काल की अपेक्षा बहुत अधिक बढ़ गया है। प्रत्येक व्यक्ति का अपना अस्त्तिव बनाए रखने के लिए एक महायुद्ध लड़ना पड़ रहा है।


Cite this article:
कमल नारायण गजपाल, नवीन कुमार द्विवेदी. सर्व शिक्षा अभियान के अतंर्गत प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षकों की समस्याओं का तुलनात्मक अध्ययन. Int. J. Ad. Social Sciences. 2020; 8(4):121-128.

Cite(Electronic):
कमल नारायण गजपाल, नवीन कुमार द्विवेदी. सर्व शिक्षा अभियान के अतंर्गत प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षकों की समस्याओं का तुलनात्मक अध्ययन. Int. J. Ad. Social Sciences. 2020; 8(4):121-128.   Available on: https://ijassonline.in/AbstractView.aspx?PID=2020-8-4-1


संदर्भित ग्रंथ सूची:-
1ण्    अग्रवाल उमेंश चंद्र (2004), भारतीय आधुनिक शिक्षा जननी - सर्व शिक्षा अभियान, वृहद् लक्ष्य- कमजोर प्रयास पृष्ठ - 9-13।
2ण्    भार्गव महेश (1992), ‘‘आधुनिक मनोविज्ञान परीक्षण व मापन’’ एच. पी. भर्गव बुक हाउस, आगरा, बारहवाँ संस्करण, पृष्ठ संख्या -263-265, 268।
3ण्    दैनिक भास्कर (2005), ‘‘गुरूजी ट्रेनिंग में, स्कूल में ताला’’, 24 अक्टूबर अंक, पृष्ठ-1।
4ण्    दैनिक भास्कर (2005), ‘‘31 करोड़ में नहीं सिखा पाये ए फार एप्पल’’, 18 दिसंबंर अंक, पृष्ठ-3।
5ण्    दैनिक भास्कर (2005), ‘‘माडलों को खा गई चिड़िया बाकी सामान कबाड़ में’’, 15 जनवरी अंक, पृष्ठ-1।
6ण्    कपिल एच. के. (1992-93), ‘‘अनुसंधान विधियाँ’’, भार्गव बुक हाउस, आगरा, पृष्ठ संख्या 10-11।
7ण्    पाण्डेय रामशकल (2003), ‘‘उदीयमान भारतीय समाज में शिक्षक’’ विनोद पुस्तक मंदिर, आगरा, पृष्ठ संख्या - 10-11।
8ण्    पाण्डेय रामशकल, ‘‘भारतीय शिक्षा की ज्वलंत समस्यायें, वोहरा पब्लिशर्स एण्ड डिस्टीब्यूटर्स, इलाहाबाद, पृष्ठ संख्या - 35-36, 51-53।
9ण्    पाठक पी. डी. (1992), ‘‘भारतीय शिक्षा और उसकी समस्याएँ’’, विनोद पुस्तक मंदिर, आगरा, पृष्ठ संख्या - 15, 313।
10ण्    पाठक एवं त्यागी (1995), ‘‘शिक्षा के सामान्य सिद्धांत’’, विनोद पुस्तक मंदिर, आगरा, पृष्ठ-169।
11ण्    राठौर मीना बुद्धि सागर, ‘‘भारतीय आधुनिक शिक्षा’’ अप्रैल - वर्मा मधुलिका (2001), ‘‘शाला अनुभव शिक्षण प्रशिक्षण का आवश्यक पहलु’’ पृष्ठ-36-47।
12ण्    शर्मा आर.ए. (1998), ‘‘शिक्षा अनुसंधान’’ सूर्या पिब्लकेशन्स, मेरठ, पृष्ठ-48-49ए 63-64।
13ण्    सक्सेना स्वरूप आर. ए. (1998), ‘‘शिक्षा के दार्शनिक एवं समाजशास्त्रीय सिद्धांत’’ सूर्या पब्लिकेशन, मेरठ, पृष्ठ-12-14।
14ण्    सर्व शिक्षा अभियान (2004-2005), ‘‘राज्य शैक्षिक सामान्य संदर्शिका अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद, रायपुर पृष्ठ-3-7।
15ण्    डाॅ तिवारी के. के (1998), ‘‘भारतीय शिक्षा-विकास और समस्यायें’’ साहित्य प्रकाशन, आगरा, पृष्ठ-36, 44, 58-78।
16ण्    वर्मा मृदुल कुमार एवं वर्मा शरत (1999), ‘‘भारतीय आधुनिक शिक्षा बाल श्रमिक कल्याण केन्द्रों में शिक्षकों की समस्यायें’’ पृष्ट-51।
17ण्    यादव सरोज (2001), ‘‘प्राइमरी शिक्षक’’ पृष्ठ संख्या - 12।

Recomonded Articles:

International Journal of Advances in Social Sciences (IJASS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in the fields....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  


Recent Articles




Tags