Author(s): उपेन्द्र प्रसाद सिंह, रूचि कुमारी

Email(s): Email ID Not Available

DOI: Not Available

Address: डाॅ. उपेन्द्र प्रसाद सिंह1, रूचि कुमारी2
1प्राध्यापक (समाजशास्त्र), शा. स्वामी विवेकानंद महाविद्यालय त्योंथर, जिला रीवा (म.प्र.)
2शोधार्थी (समाजशास्त्र), शा. ठाकुर रणमत सिंह, महाविद्यालय रीवा (म.प्र.) *Corresponding Author

Published In:   Volume - 9,      Issue - 4,     Year - 2021


ABSTRACT:
ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में बसे पारवलूम श्रमिक अपनी विपन्नता पर आँसू बहा रहे हैं। मऊ जनपद में पावरलूम उद्योग से जुड़े अधिकतर श्रमिक मुस्लिम समुदाय के है। जिनका वर्ग अंसारी, और मसूरी है, जिसमें अंसारीों की संख्या अधिक है। जिले में केन्द्र और राज्य सरकार द्वारा बुनकर समुदाय के लोगों के लिए छोटी-बढ़ी योजनाएं संचालित है पर इसका उन्हें कोई लाभ नहीं मिल पा रहा है। योजनाओं के लाभ के लिए कार्यालयों का चक्कर लगाना और सम्बन्धित विभाग के कर्मचारियों और अधिकारियों की मांगे पूरी करने के अलावा आवश्यक खानापूर्ति के बाद मिलने वाली राशि इस लायक नहीं रहती है उसके माध्यम से वे अपनी व्यवसाय को उन्नत बना सके। मऊ जनपद के पावरलूम उद्योग के लिए विकास के लिए जो कार्यालय लागू किया गया है वह विकास कार्यक्रम कागजी घोड़ो पर आर्थिक, सामाजिक, पावरलूम उद्योग के विकास, रोजगार के विकास कार्यक्रम लागू किये गये हैं। लेकिन आज भी ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों की स्थिति आज भी दयनीय बनी हुई है। तत्पश्चात भावी विकास की रणनीति तय की जायेगी। इस जनपद में सैकड़ों वर्षों तक फलने-फूलने वाला हथकरघा एवं पावरलूम उद्योग जिले के कुछ ही क्षेत्रों जैसे घोसी, चिरैयाकोट, कोइरियापार, मोहम्मदाबाद आदि में देखने को मिल रहा है। बड़ी कम्पनियों के प्रवेश और औद्योगीकरण के कारण पारम्परिक श्रमिकों का बुरा हाल है। उनके सामने स्वास्थ्य, शिक्षा और भरण पोषण की समस्या पैदा हो गयी है। पावरलूम उद्योग के क्षेत्र में आये बदलाव के साथ श्रमिकों की आर्थिक स्थिति एवं अन्य विभिन्न सामाजिक क्षेत्रों में आये बदलाव, वर्तमान वस्तुस्थिति का यथार्थ आकलन वर्तमान शोध का अभिष्ट अंग है।


Cite this article:
उपेन्द्र प्रसाद सिंह, रूचि कुमारी. पावरलूम उद्योग में कार्यरत मुस्लिम श्रमिकों का एक समाजशास्त्रीय अध्ययन (मऊ जिले के विशेष संदर्भ में). International Journal of Advances in Social Sciences. 2021; 9(4):183-0.

Cite(Electronic):
उपेन्द्र प्रसाद सिंह, रूचि कुमारी. पावरलूम उद्योग में कार्यरत मुस्लिम श्रमिकों का एक समाजशास्त्रीय अध्ययन (मऊ जिले के विशेष संदर्भ में). International Journal of Advances in Social Sciences. 2021; 9(4):183-0.   Available on: https://ijassonline.in/AbstractView.aspx?PID=2021-9-4-4


संदर्भ ग्रन्थ-सूची:-
1. मुखर्जी रवीन्द्रनाथ, समाजशास्त्रीय निबंध आर्य बुक डिपो. बरेली 1963 ई० 2
2. डॉ० बघेल, डी०एस० समकालीन भारतीय समाज और संस्कृति पुष्पराज प्रकाशन, रीवा 1986
3. कपाडिया, के०एम०, सामाजिक परिवर्तन विश्वविद्यालय प्रकाशन, जयपुर, नवीन प्रकाशन 2004
4. मुखर्जी श्यामचरण परिवार और समाज कमल प्रकाशन इन्दौर
5. गे० गे० एम० ए० आर्गनाइजेशन एण्ड फैमली चेन्ज पापुलर प्रकाशन बम्बई 1995
6. गुड जे० वियिम, वल्र्ड रिब्यूलेशन एण्ड फैमली पैटर्न द फ्री प्रेस न्यूयार्क 1968 50
7. डॉ० त्रिवेदी आर० एन० एवं डॉ० शुक्ला डी०पी० रिसर्च मैथडोलाजी, कालेज बुक डिपो, जयपुर
8. बघेल, डी०एस०, सामाजिक अनुसंधान साहित्य भवन प्रकाशन, आगरा।
9. सक्सेना, एस.सी. (1992): श्रम समस्यायें एवं सामाजिक सुरक्षा, रस्तोगी पब्लिकेशन शिवाजी रोड, मेरठ।
10. मिश्रा एस.के. एवं पुरी बी.के. (1993): भारतीय अर्थ व्यवस्था हिमालय पब्लिशिंग हाउस ‘‘रामदूत’’ डाॅ. भले राव मार्ग, गिरगाँव मुम्बई।

Recomonded Articles:

International Journal of Advances in Social Sciences (IJASS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in the fields....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  


Recent Articles




Tags